कोरिया जिले के महिला पुलिस स्वयं सेविका को 11 महीने से नहीं मिला मानदेय। जल्द मानदेय की मांग को लेकर मनेन्द्रगढ़ थाने पहुंची 130 स्वयं सेविका महिला पुलिस।

कमरुन निशा

बीओ – आप को बता दे कि पूर्व की छत्तीसगढ़ शासन द्वारा कानून में कसावट को लेकर प्रत्येक वार्ड,मुहल्ले के लिए महिला पुलिस स्वयं सेविकाओं की भर्ती महिला बाल विकास द्वारा किया गया था। जोकि पुलिस एवं महिला विकास विभाग प्रत्येक कार्य में कंधे से कंधा मिलाकर रोज आठ-आठ घंटे काम करती रही हैं। मगर लगातार 11 महीने से मानदेय न मिलने के कारण आज यह सभी काफी परेशान हैं। वहीं दीपावली के पर्व के साथ और भी पर्व आ जाने के कारण इनकी परेशानी और भी बढ़ गयी है। साथ ही अब अपने घरों से निकलने पर भी परिवार के सदस्यों को जवाब देना मुश्किल से हो गया है।परिवार के लोग भी बोलने लगे हैं कि अगर मानदेय नहीं मिलता है तो अपने घर मे ही रहो। जल्द मानदेय नहीं मिलने पर जिला कलेक्टर व एसपी से शिकायत की बात कही जा रही है। मगर एक बात तो तय है कि जिस महिला पुलिस स्वयं सेविका को शासन द्वारा चेतना का नाम दिया गया था आज वह खुद आर्थिक स्थिति के कारण काफी दिक्कतों का सामना कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *