थाना चरचा अप. क्र. 104 / 2022 धारा 420, 467, 468, 471, 34 भा.द.वि. प्रकरण के अन्य मुख्य चार आरोपियों को पुनः गिरफ्तार

kamrun nisha

जिला कोरिया के थाना चरचा अप. क्र. 104 / 2022 धारा 420, 467, 468, 471, 34 भा.द.वि. प्रकरण के अन्य मुख्य चार आरोपियों को पुनः गिरफ्तार

  1. ओमप्रकाश अनिल कुमार श्रीवास्तव पिता अनिल कुमार श्रीवास्तव उम्र 40 वर्ष निवासी फ्लैट न० 102 रश्मि दुविता पार्क नाला सोपारा न्यु लिंक रोड वसई ईस्ट थाना नालासोपारा जिला पालघर (महाराष्ट्र)

02.जाकिर सफी शेख पिता सफी शेख उम्र 40 वर्ष निवासी फ्लैट न० 10-11 बिल्डिगं

नम्बर 202 / 228 दिल्ली दरबार के सामने पीबी मार्ग मुम्बई-04 थाना ग्रेन्टरोडजिला मुम्बई (महाराष्ट्र)

  1. शुभम तनेजा पिता सूरेन्द्र तनेजा उम्र 28 वर्ष निवासी मकान न0 316 डोगरा मोहल्ला थाना मुल्तानी पुलिस थाना जिला हिसार हरियाणा
  2. सैन्की उर्फ योगेश धरानी पिता रोशन लाल धरानी उम्र 33 वर्ष निवासी 657 / 27 गली न008 मदनपुरी थाना न्यु कालोनी पुलिस थाना जिला गुड़गाव हरियाणा

मामले का संक्षिप्त विवरण इस प्रकार है कि दिनाँक 13.04.2022 को प्रार्थी संयुक्त कलेक्टर अनिल कुमार सिदार निवासी कलेक्टर कार्यालय बैकुण्ठपुर जिला कोरिया (छ.ग.) थाना उपस्थित आकर लिखित आवेदन पत्र प्रस्तुत कर रिपोर्ट दर्ज कराया कि दिनाँक 22.03.2022 से दिनाँक 13.04.2022 के मध्य कलेक्टर कार्यालय कोरिया के नाजारत शाखा के लगभग 21 चेकों को क्लोनिंग कर अलग-अलग राशि का चेक मुम्बई स्थित विभिन्न बैंक के ब्रांच में कोर बैंकिंग के द्वारा चेक क्लीयरिंग कराकर अतीश सुभाष गायकवाड़ निवासी बुद्धनगर आजादनगर थाना उल्हासनगर-2, जिला थाणे (महाराष्ट्र), अक्षर पवेलियन कम्पनी तथा दीवान सिंह पारते निवासी गुड़गांव के खातों में लगभग एक करोड़ उन्नतीस लाख रूपये कुट रचना कर आहरण कर लिया गया है। प्रार्थी के रिपोर्ट अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना कार्यवाही में लिया गया। प्रकरण की विवेचना में जिले के पुलिस अधीक्षक श्री प्रफुल्ल कुमार ठाकुर के कुशल निर्देशन एवं अति. पुलिस अधीक्षक श्रीमती मधुलिका सिंह तथा उप पुलिस अधीक्षक श्री नेल्शन कुजूर मुख्यालय बैकुण्ठपुर के कुशल मार्गदर्शन में टीम गठित कर तत्काल दिल्ली, मुम्बई तथा पटना बिहार हेतु रवाना किया गया था।

प्रकरण में अब तक की कार्यवाही में ज्ञात हुआ कि ओमप्रकाश अनिल श्रीवास्तव, सचिन प्रकाश शिरोडकर, जयप्रकाश यादव, हिमाशु तनेजा, शुभम तनेजा सैन्की उर्फ योगेश धरानी, जाकिर सफी शेख, फर्जी खाता धारक दिवान सिंह पारतें, तथा मुम्बई का अतीश गायकवाड़, आदित्य नन्दु गायकवाड़ तथा तुशार प्रकाश सालवे, एवं अजमत ताज, तथा उसकी पत्नी नगमी परवीन, मो. आरिफ मो. नईम सभी लोग मिलकर एक राय होकर फर्जी चेक बनाकर उससे पैसा निकालने का काम शुरू किए। पुरे प्रकरण में ओमप्रकाश श्रीवास्तव, सचिन तथा जयप्रकाश यादव गुगल, इन्टरनेट सोशलमिडीया के माध्यम से देश के बड़े बड़े फर्म शासकीय कार्यालय का चेक निकालते तथा सचिन कम्प्युटर में फर्जी चेक तथा फर्जी हस्ताक्षर एव फर्जी सील तैयार करता था. उक्त चेक लगने वाले खातों की जानकारी ओमप्रकाश श्रीवास्तव, जय प्रकाश यादव निकालता था। चेक तैयार कर जाकिर सफी शेख मुम्बई के विभिन्न बैंक के ब्राचों में जाकर चेक के सम्बन्ध में रकम पता कर बैकों में चेक लगाता था। फर्जी चेक से पैसा हस्तातरंण करने के लिए हिमांशु तनेजा, सैन्की उर्फ योगेश धरानी, शुभम तनेजा दिवान सिंह पारतें द्वारा मिलकर गुड़गाँव में करीब दस-पन्द्रह .. अलग-अलग बैंकों में दिवान सिंह पारते के नाम से खाता खुलवाया तथा गुड़गांव में ही अक्षर पवेलियिन सी. एच.एस.एल. नाम से एक पेन्ट का दूकान खोले। तथा इसी के मुम्बई के अतीश गायकवाड, आदित्य नन्दु गायकवाड़ तथा तुशार सालवे, द्वारा भी अतीश के नाम से खुला हुआ खाता को फर्जी चेक के पैसा आहरण करने के लिए उपयोग में लाने लगे। इस टीम के द्वारा लगभग 04-05 माह पूर्व ओमप्रकाश अनिल श्रीवास्तव, सचिन शिरोडकर तथा जयप्रकाश यादव सोशल मिडीया गुगल द्वारा बैकुण्ठपुर जिला कोरिया (छ. ग.) के कलेक्टर कार्यालय का चेक निकालकर उस चेक का कुट रचित चेक तैयार किये तथा उसे जाकिर शफी शेख मुम्बई के बैंकों में विरार बोईसर के बैंक आफ बड़ौदा तथा एचडीएफसी के विभिन्न ब्रांचों में क्लियर करने के लिये लगाने लगा। जिसका पैसा दिवान सिंह पारते के खाते तथा अक्षर पवेलियन दूकान फर्म के खाते में एवं अतिश सुभाष गायकवाड मुम्बई वाले के खाते में हस्तारण कराते थे तथा जिसे हिमाशु तनेजा, शुभम तनेजा सैन्की उर्फ योगेश धरानी तथा दिवान सिंह पारते दूसरे खाते में हस्तारित कर ए.टी.एम. तथा सामान खरीद दारी के माध्यम से दिल्ली, गुड़गांव तथा पटना से अजमत ताज, मो० आरिफ एंव मो० नईम तथा उसकी पत्नी नगमी परवीन निकालने लगे। यह पैसा निकालकर आपस में अपना अपना हिस्सा बाट लेते थे। पूर्व में पुलिस टीम द्वारा फर्जी खाता धारक आरोपी अतीश सुभाष गायकवाड़ एवं आदित्य नन्दू गायकवाड को दिनाँक 18.04.2022 एवं फर्जी खाता धारक आरोपी दीवान सिंह पारते तथा दिनाँक 25.04. 2022 को अन्य दो आरोपी मो. आरिफ तथा मो. नईम को एवं 01.05.2022 को पटना से अजमत ताज एवं उसकी पत्नी नगमी परवीन को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमाण्ड पर भेजा गया है।

पुलिस टीम द्वारा मुम्बई जाकर प्रकरण के मुख्य आरोपी ओमप्रकाश अनिल कुमार श्रीवास्तव पिता अनिल कुमार श्रीवास्तव उम्र 40 वर्ष निवासी फ्लैट न० 102 रश्मि दुविता पार्क नाला सोपारा न्यु लिंक रोड वसई ईस्ट थाना नालासोपारा जिला पालघर (महाराष्ट्र) एवं जाकिर सफी शेख पिता सफी शेख उम्र 40 वर्ष निवासी फ्लैट न0 10-11 बिल्डिगं नम्बर 202 / 228 दिल्ली दरबार के सामने पीबी मार्ग मुम्बई 04 थाना ग्रेन्टरोड जिला मुम्बई (महाराष्ट्र) एवं शुभम तनेजा पिता सूरेन्द्र तनेजा उम्र 28 वर्ष निवासी मकान न0 316 डोगरा मोहल्ला थाना मुल्तानी पुलिस थाना जिला हिसार हरियाणा एवं सैन्की उर्फ योगेश धरानी पिता रोशन लाल धरानी उम्र 33 वर्ष निवासी 657/27 गली न008 मदनपुरी थाना न्यु कालोनी पुलिस थाना जिला गुड़गाव हरियाणा से पूछताछ कर आरोपियों का मेमोरण्डम कथन लेखकर आरोपियों के बताये अनुसार घटना में प्रयुक्त खाता एटीएम मोबाईल एवं प्राप्त राशि में खरिदा कार हॉण्डा सिटी कार एवं आई-20 कार दो नग एवं नगदी रकम 2,60,000 रूपए जुमला किमती लगभग 10,00,000 रूपए जप्त किया गया हैं।” प्रकरण का एक आरोपी सचिन प्रकाष शिरोडकर को मुम्बई पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया है तथा प्रकरण में दो फरार आरोपी की गिरफ्तारी किया जाना शेष है। प्रकरण के आरोपियों के द्वारा वर्ष 2011 से इस प्रकार के अपराध किया जा रहा है। जिसके

घटनाक्रम में सर्वप्रथम प्रकरण के आरोपियों द्वारा 01. वर्ष 2011 में मुम्बई स्थित बालाजी टेलीफिल्म कम्पनी के चेक से लगभग 33000000 रूपये,

  1. वर्ष 2020 में राजस्थान में 20,00000 रूपये का,
  2. लखनऊ उत्तरप्रदेश में वर्ष 2021 में लगभग 6200000 रूपये
  3. गुजरात में 9,00000 रूपये का फर्जी चेक तैयार कर खातों से पैसा आहरण किया गया है जिसके संबंध में विभिन्न राज्यों में अपराध पंजीबद्ध किया गया है तथा प्रकरण के आरोपीगण उक्त घटना में संलिप्त

है।

प्रकरण के सम्पुर्ण कार्यवाही में थाना प्रभारी चरचा उप निरीक्षक अनिल कुमार साहू, थाना प्रभारी बैकुण्ठपुर निरीक्षक अश्वनी सिंह, थाना प्रभारी मनेन्द्रगढ़ उप निरीक्षक सचिन सिंह, थाना प्रभारी पटना उप निरीक्षक सौरभ द्विवदी, तथा सायबर सेल की संयुक्त टीम का विशेष सहयोग रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.